Testing

Random Test Post # 2

Just the purpose

Hey there! This is Markdown in Test Post # 2 (here after TP2). Let’s see how it looks

Creativity is contagious ! Pass it on

Albert Einstein

Rating: 4 out of 9.

Henry Ford Painting

Buy the legendary paiting with his famous quote from Henry Ford

$10.00

Who would you choose

The political environment in the country is not as good as we expect for which is the fastest growing economy of the world in 21st century

Chose your option and let us know!

Lorem Ipsum क्या है?

Lorem Ipsum छपाई और अक्षर योजन उद्योग का एक साधारण डमी पाठ है. Lorem Ipsum सन १५०० के बाद से अभी तक इस उद्योग का मानक डमी पाठ मन गया, जब एक अज्ञात मुद्रक ने नमूना लेकर एक नमूना किताब बनाई. यह न केवल पाँच सदियों से जीवित रहा बल्कि इसने इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में छलांग लगाने के बाद भी मूलतः अपरिवर्तित रहा. यह 1960 के दशक में Letraset Lorem Ipsum अंश युक्त पत्र के रिलीज के साथ लोकप्रिय हुआ, और हाल ही में Aldus PageMaker Lorem Ipsum के संस्करणों सहित तरह डेस्कटॉप प्रकाशन सॉफ्टवेयर के साथ अधिक प्रचलित हुआ.

हम इसे क्यों प्रयोग करते हैं?

यह एक लंबा स्थापित तथ्य है कि जब एक पाठक एक पृष्ठ के खाखे को देखेगा तो पठनीय सामग्री से विचलित हो जाएगा. Lorem Ipsum का उपयोग करने का मुद्दा यह है कि इसमें एक और अधिक या कम अक्षरों का सामान्य वितरण किया गया है, ‘Content here, content here’ प्रयोग करने की जगह इसे पठनीय English के रूप में प्रयोग किया जाये. अब कई डेस्कटॉप प्रकाशन संकुल और वेब पेज संपादक उनके डिफ़ॉल्ट मॉडल पाठ के रूप में Lorem Ipsum उपयोग करते हैं, और अब “Lorem Ipsum” के लिए खोज अपने शैशव में कई वेब साइटों को उजागर करती है. इसके विभिन्न संस्करणों का वर्षों में विकास हुआ है, कभी दुर्घटना से, तो कभी प्रयोजन पर (हास्य और लगाव डालने के लिए).

यह कहाँ से आता है?

आम धारणा के विपरीत Lorem Ipsum बस यादृच्छिक (random) पाठ नहीं है. यह 45 ई.पू. से शास्त्रीय लैटिन साहित्य के एक टुकड़े से जुड़ा है, जो इसे 2000 वर्ष से अधिक प्राचीन बनाता है. Richard McClintock, हेम्प्डन-वर्जीनिया में सिडनी कॉलेज में एक लैटिन प्रोफेसर है, ने एक Lorem इप्सुम में से एक और अधिक अस्पष्ट लैटिन शब्द देखा और शास्त्रीय साहित्य के शहर में जाते हुए असंदेहदास्पक स्रोत की खोज की. Lorem Ipsum सिसरौ(Sisero) द्वारा “De Finibus Bonorum et Malorum” (अच्छाई और बुराई की चरम सीमा) के 1.10.32 और 1.10.33 वर्गों से आता है जो ४५ BC में लिखा गया था. यह पुस्तक “नैतिकता के सिद्धांत” विषय पर निबंध, जो नवजागरण के दौर का एक बहुत लोकप्रिय ग्रंथ है. Lorem Ipsum की पहली पंक्ति, “Lorem ipsum dolor sit amet..”, 1.10.32 खंड में एक पंक्ति से आती है.

Lorem Ipsum का मानक हिस्सा जिसकी प्रतिलिपि सन 1500 से प्रयोग की जाती है, रुचि रखने वालों के लिए नीचे उपलब्ध है. Cicero द्वारा लिखे गए “de Finibus Bonorum et Malorum” के खंड 1.10.32 और 1.10.3 भी अपने सटीक मूल रूप में उत्पादित हैं, साथ ही H. Rackham द्वारा 1914 में अंग्रेजी में अनुवादि

0 comments on “Random Test Post # 2

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: